Sifli Aur Kaale Ilm Ke Vaar Ko Rokne Ka Amal

Sifli Aur Kaale Ilm Ke Vaar Ko Rokne Ka Amal

Sifli Aur Kaale Ilm Ke Vaar Ko Rokne Ka Amal ,” kaale ilm ke aamil bada sakht kism ka kala jadu ya taweez karte hai sifli yaa kaale ilm ke zariye karobaar , kaarkhana , dukaan yaa business ko bandh dete hai ,,, aur inke kaale aur sifli ilm ka asar bhut jaldi hota hai , lekin munafa aur nuksaan allah ke hath me | aesi surat me is ism “Yaa Muntaqimu” ka wird kaale ilm ke vaar ko rok deta hai lihaja jis par kaale ilm ka vaar ho gya ho to use chahiye ki 40 din tak subha ke waqt yeh ism 640 baar padhe agar isse jyada yaani 6400 baar padh skta ho to padh inshallah kaale ilm ke vaar ka asar foran khatam ho jayega aur pahle ki tarah har kaam mamool ke mutabik dorust ho jayega |

काले इल्म के वार को रोकने का अमल

काले इल्म के आमिल बड़ा सख्त किस्म का कला जादू या तावीज़ करते है सिफ़ली या काले इल्म के ज़रिये कारोबार , कारखाना , दूकान या बिज़नेस को बांध देते है ,,, और इनके काले और सिफ़ली इल्म का असर बहुत जल्दी होता है , लेकिन मुनाफा और नुक्सान अल्लाह के हाथ में | ऐसी सूरत में इस इस्म “या मुन्तक़िमु” का विर्द काले इल्म के वार को रोक देता है लिहाजा जिस पर काले इल्म का वार हो गया हो तो उसे चाहिए की 40 दिन तक सुबह के वक़्त यह इस्म 640 बार पढ़े अगर इससे ज्यादा यानी 6400 बार पढ़ सकता हो तो पढ़ इंशाल्लाह काले इल्म के वार का असर फ़ौरन ख़तम हो जायेगा और पहले की तरह हर काम मामूल के मुताबिक दुरुस्त हो जायेगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *